भतीजी का खूबसूरत भोसड़ा चाचा का पूरा लंड निगल गया

loading...

हेल्लो दोस्तों, मैं जुग्गीलाल आप सभी का नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम में बहुत बहुत स्वागत करता हूँ। मैं पिछले कई सालों से नॉन वेज स्टोरी का नियमित पाठक रहा हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती तब मैं इसकी रसीली चुदाई कहानियाँ नही पढ़ता हूँ। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सूना रहा हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि यह कहानी सभी लोगों को जरुर पसंद आएगी। ये मेरी जिन्दगी की सच्ची घटना है।

दोस्तों मेरी भतीजी शीला धीरे धीरे जवान होती जा रही थी और उसकी खूबसूरती दिन पर दिन बढती जा रही थी। शीला को जब मैं देख लेता था मेरा लंड खड़ा हो जाता था। वो मेरी प्यारी भतीजी थी और मेरे बड़े भैया की इक्लौती सन्तान थी। मेरे बड़े भैया तो हमेशा अपनी दूकान पर रहते थे इसलिए शीला की सारी जिम्मेदारी मेरी ही थी। मेरा घर बिजनौर के पास एक गाँव में था। गाँव में स्कूल नही था इसलिए मै रोज शीला को साइकिल पर बिठाकर १० किमी दूर स्कूल ले जाता था। अब मेरी भतीजी शीला १२वीं में आ गयी थी और बहुत खूबसूरत माल बन गयी थी। समय के साथ उसका जिस्म भर गया था और जिस्म में बहुत बदलाव हो गया था। अब शीला वो पहले वाली शीला नही रह गयी थी। वो ५ फुट २ इंच लम्बी हो गयी थी और बिलकुल मस्त चोदने लायक माल हो गयी थी। अब तो मेरा लंड उसे देखते ही खड़ा हो जाता था। धीरे धीरे मैं सोचने लगा की कैसी अपनी खूबसूरत भतीजी की चूत मारू।

loading...

अब तो मैं यही बात सोचा करता था। जब एक दिन दोपहर में मैं अपनी भतीजी शीला को साईकिल से लेकर आ रहा था। रास्ता कच्चा था और गाँव का रास्ता तो कच्चा होता ही है। कुछ देर बाद शीला कहने लगी की उसे प्यास लग रही है। तो मैंने एक बड़े से पीपल के पेड़ के पास अपनी साइकिल रोक दी। वहां पर एक सरकारी नल लगा हुआ था। मैं नल चलाने लगा और शीला पानी पीने लगी। वहां पर झाडी में एक लड़का लड़की चुदाई कर रहे थे उस बड़े से पीपल वाले पेड़ के पीछे वो दोनों थे। शीला ने वो चुदाई वाली आवाज सुनी तो वो कुछ समझ नही पायी और उस पेड़ के पीछे देखने चली गयी।

वहां पर एक लकड़ा और लड़की घास पर नंगे लेटे हुए थे और जमकर चुदाई कर रहे थे। वो जवान लड़की“……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….” बोल बोलकर चिल्ला रही थी। उसका प्रेमी उसे जल्दी जल्दी चोद रहा था। जब शीला ने वो चुदाई देखी तो बिलकुल चौंक गयी।

“चाचा वो लड़के लड़की क्या कर रहे है???” मेरी भतीजी पूछने लगी

“शीला वो दोनों चुदाई के मजे ले रहे है!!” मैंने कहा

उसके बाद वो शर्मा गयी और हम दोनों पुरे रास्ते कुछ नही बोले। आज पहली बार मेरी खूबसूरत भतीजी को चुदाई के बारे में पता चला था। इससे पहले वो बहुत मासूम थी और चूत चुदाई के बारे में कुछ नही जानती थी। कुछ दिन बाद जब मैंने उसको अपनी साईकिल पर डंडे पर बिठाया तो मेरा हाथ उसके बूब्स पर लग गया। दोस्तों अब मेरी भतीजी शीला बहुत मस्त माल बन चुकी थी और उसके बूब्स ३६” के हो गये थे। जैसे ही मेरा हाथ उसके मम्मो से टकरा गया मुझे बहुत अच्छा लगा। शीला का चेहरा बता रहा था की उसे भी मजा आ रहा था। मैंने उसे अपनी साईकिल पर बिठा लिया और स्कूल को जाने लगा। पर ना जाने क्यों आज मेरा अपनी सगी भतीजी को चोदने का बहुत मन था। मेरा लंड तो साइकिल चलाते हुए ही खड़ा हो गया था। शीला बिलकुल चुप थी। हमारे बीच एक सन्नाटे की दिवार थी। मुझे इस तरह का सन्नाटा जरा भी पसंद नही था। इसलिए मैं बात करने लगा।

“शीला तूने कभी चुदाई की है????” मैंने पूछा

पहले तो वो झेप रही थी। पर मैं फिर वो इस मुद्दे पर बात करने लगा। शायद आज उसका भी चुदने का दिल कर रहा था।

“नही चाचा….मैं आजतक नही चुदी हूँ!!” शीला बोली

“शीला अगर तुझे लंड खाना हो और चुदाई का मजा लेना हो तो बता!!” मैंने कहा।

दोस्तों पता नही क्यों आज मेरा भी उसे स्कूल ले जाने का मन नही कर रहा था। बस मैं अपनी सगी भतीजी को कसकर चोदना और पेलना चाहता था।

“पर चाचा आखिर मुझे कौन चोदेगा!! मेरी रसीली बुर में कौन मर्द लंड डालकर मुझे सेक्स और ठुकाई का मजा देगा????” शीला बोली

“अरी पगली…मैं तेरी कुवारी सील तोड़कर तुझे चोदूंगा और सेक्स के मजे दूंगा!!” मैंने कहा

उसके बाद मैं जल्दी जल्दी साईकिल के पैडल मारने लगा। और कुछ ही देर में एक आम का बगीचा आ गया। दोस्तों आमो के पेड़ में आम लगे हुए थे पर आज तो मेरा मेरी सगी भतीजी के आम खाने का मन था। मैं शीला को एक बड़े आम के पेड़ के नीचे ले गया। वहां पर कोई नही था। मैंने अपनी शर्ट और पेंट निकाल दी और शीला को घास पर लिटा दिया। उस आम के बगीचे में बहुत अच्छी ठंडी हवा चल रही थी। मैंने शीला को घास पर लिटा दिया और उसे अपनी बाहों में भर लिया। वहां पर बड़ी छाँव थी इसलिए बहुत ठंडा ठंडा लग रहा था। मैंने अपनी सगी भतीजी को बाहों में भर लिया और किस करने लगा। विश्वास ही नही हो रहा था की आज मैं उसकी गुलाबी चूत मारने जा रहा था। कुछ साल पहले तक शीला बहुत छोटी और मासूम हुआ करती थी। पर धीरे धीरे समय के साथ उसकी कद और वजन बढ़ गया था और अब मेरी भतीजी १८ साल की मस्त चोदने लायक माल हो गयी थी।

उसकी लम्बाई बहुत बढ़ गयी थी और शरीर अब काफी भर गया था। शीला का सीना भी अब काफी बढ़ गया था और ३६” की मस्त मस्त गोल गोल चूचियां कोई भी उसके कमीज के दुपट्टे के नीचे से देख सकता था। मैंने शीला का दुपट्टा हटा दिया तो उसकी कमीज से उसके बड़े बड़े मम्मे बाहर की तरफ झाँक रहे थे। मैंने शीला को घास पर लिटा दिया और उसके मस्त मस्त आम मैं दबाने लगा। फिर मैं उसके उपर लेट गया और उसके रसीले होठ मैं चूसने लगा। मैं एक चोदू टाइप का चाचा था। शीला मेरी भतीजी लगती थी। मुझे उसकी बुर नही चोदनी चाहिए थी पर मैं मजबूर था। किसी खूबसूरत लौंडिया की चूत मारने के लिए मैं कुछ भी कर सकता था। मैं तो अपनी सगी बहन और माँ को भी चोद सकता था। कुछ देर में इमरान हाशमी की तरह अपनी सगी भतीजी के रसीले होठ पीने लगा और मजा लेने लगा। शीला भी मजे से मेरे होठ चूस रही थी। मेरे हाथ उसके कमीज के मम्मो पर चले गये। उफ्फ्फफ्फ्फ़….कितनी मस्त मस्त गोल गोल रबर की गेंद थी।

जैसे ही मैं धीरे धीरे उसके मम्मो को दबाने लगा शीला “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” कहकर चिल्लाने लगी। मुझे मौज आ गयी और मैं तेज तेज उसके रसीले बूब्स को दबाने लगा। वो सिस्कारियां लेने लगी। शीला को भी खूब मजा आ रहा था। वो मुझसे अपनी रसीली छातियां दबवा रही थी। धीरे धीरे मैंने उसकी स्कुल ड्रेस वाली कमीज को निकाल दिया और उसकी कसी ब्रा को भी खोल दिया। उसके कबूतर उछल कर मेरी आँखों के सामने आ गये थे। मैं तो जैसे पागल हो गया था। दोस्तों आजतक मैं कई लौंडिया चोदी थी पर मेरी भतीजी तो बिलकुल हीरा था। मैं अपने हाथ उसकी नंगी छातियों पर रख दिए तो वो सिसक गयी और “…..ही ही ही ही ही…….अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…” चीखने लगी। आज मुझे बहुत मजा मिल रहा था।

कितने दिन से मैं सोच रहा था की काश शीला की चूत मुझे मारने को मिल जाती और आज सच में मैं उसको रगड़कर चोदने वाला था। फिर मैंने लगे हाथों शीला की सलवार भी खोल दी और फिर उसकी चड्ढी भी निकाल दी। अब मेरी सगी भतीजी मेरे सामने पूरी तरह से नंगी थी। आज आम के ठंडे ठंडे बगीचे में मैं उसकी ठुकाई और चुदाई का कार्यक्रम बना रहा था। अपनी नंगी भतीजी को देखकर मेरा ८” का लौड़ा पूरी तरह से खड़ा हो गया था। फिर मैंने भी अपनी पैंट और अंडरविअर निकाल दिया और नंगा हो गया। अब हम चाचा भतीजी पूरी तरह से नंगे हो गये थे। मैं शीला पर लेट गया और उसके बेहद चिकने संगमरमर जैसे मम्मे मैं मुंह में लेकर पीने लगा। धीरे धीरे मैं हाथ से उसकी मस्त मस्त छातियाँ दबा भी रहा था। वो“आई…..आई….. अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…” बोलकर चिल्ला देती थी।

आज पहली बार मैंने अपनी भतीजी को बिलकुल नंगा देता था। मैं तेज तेज उसके आम दबाने लगा और मुंह में लेकर पीने लगा। उसकी चूचियां बहुत ही खूबसूरत, चिकनी और रसीली थी। मैं अपनी भतीजी के कबूतरों को मुंह में लेकर चूस रहा था। उसकी चुचियों तो बिलकुल नारियल की तरह कलश जैसी दिख रही थी। चुचियों की निपल्स के चारो ओर बड़े बड़े काले घेरे थे जो बहुत सुंदर और सेक्सी लग रहे थे। मैं अपना मुंह में लेकर शीला के आमो को चूस रहा था। उसकी निपल्स को चबा रहा था। बड़ी देर तक हम चाचा भतीजी किसी प्रेमी प्रेमिका की तरह प्यार करते रहे। फिर मैं अपने हाथ से शीला की गोरी गोरी टांगो को सहलाने लगा। दोस्तों वो मस्त आइटम थी। मेरी भतीजी की टाँगे बहुत गोरी और चिकनी थी। मैं बहुत देर तक उसकी चिकनी टांगो को किस करता रहा और चाटता रहा। फिर मैं उसके गोल गोल घुटनों को चूमने लगा और शीला के मस्त मस्त सफ़ेद उजली जांघो पर आ गया। और मुंह लगाकर मैं उसकी जांघो को पीने लगा और किस करने लगा।

मेरी भतीजी शीला की चूत मेरे सामने थी। मैं उसकी भोसड़ी के दर्शन कर रहा था। अभी कुछ साल पहले मेरी भतीजी एक छोटी बच्ची हुआ करती थी और आज एक मस्त चोदने लायक माल बन गयी थी। शीला की चूत पर हल्की हल्की काली काली झाटें उग आई थी जो उसे बताती थी की उसकी चूत पक चुकी है और चुदने को तैयार है। फिर मैं नीचे झुक गया और अपनी सगी भतीजी की भोसड़ी [चूत] को पीने लगा। शीला मचलने लगी। मैं जल्दी जल्दी किसी कुत्ते की तरह उसकी बुर चाट रहा था। दोस्तों मुझे बहुत सेक्सी सेक्सी फील हो रहा था। जी कर रहा था की उसकी रसीली चूत को मैं खा ही जाऊं। शीला की बुर बहुत गर्म गर्म थी और भट्टी की तरह सुलग और धधक रही थी। मैं जीभ लगाकर अपनी कुवारी चुदासी भतीजी की चूत चाट और पी रहा था। कुछ देर बाद वो वो बहुत जल्दी जल्दी अपनी गांड हवा में उठाने लगी। शीला को बहुत मजा मिल रहा था। उसकी चूत की सील बंद थी और आजतक किसी ने उसे नही चोदा था।

आज मैं यानी उसका चाचा की उसे चोदने जा रहा था। मैं २० मिनट तक अपनी भतीजी की बुर को मुंह लगाकर पिया और भरपूर मजा लिया। उसके बाद मैंने फिर से शीला के ताजे गुलाब जैसे होठो को चूसने लगा। मैं हाथ से उसके चिकने मम्मो को दबा देता था। वो चहक उठती थी। कुछ देर बाद मैंने उसकी दोनों टांगो को खोल दिया और उसकी चूत पर मैंने अपना ७” का मोटा लौड़ा रख दिया और बार बार शीला के चूत के दाने को रगड़ने लगा। वो हर बार सोचती की इस बार मैं अपना लंड उसकी चूत में डाल दूंगा और हर बार मैं नही डालता और उसके चूत के दाने को अपने लौड़े से घिसने लग जाता। बड़ी देर तक मैं इस तरह के खेल खेलता रहा। फिर अचानक से मैं अपना मोटा सिलबट्टे जैसा मोटा लंड उसकी चूत के दरवाजे पर रखकर जल्दी से अंदर मार दिया। चट की मीठी से आवाज हुई और शीला की चूत की सील टूट गयी। मेरा लौड़ा अंदर घुस गया और मैं उसको जल्दी जल्दी चोदने लगा। वो “आऊ…..आऊ….हममममअहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज बार बार निकाल रही थी। मैंने नीचे देखा तो मेरी गांड फट गयी। मेरा ७” का लौड़ा मेरी सगी भतीजी के खून से सन गया था। पर मैं रुका नही और जल्दी जल्दी शीला की चूत मारता रहा।

“चाचा….प्लीस अपना लौड़ा निकाल लो वरना मैं मरजाऊँगी…“….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हममममअहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” शीला चीख रही थी। पर मैं नही रुका और दनादन उसे पेलता रहा। मैंने उसकी पतली सेक्सी कमर को कसकर दोनों हाथो से पकड़ लिया था और जल्दी जल्दी अपनी सगी भतीजी को चोद रहा था। शीला रो रही थी। उसकी भोसड़ी [चूत] मेरे लौड़े को पूरा का पूरा निगल जा रही थी। मैं एक मिनट के लिए भी नही रुका और दर्द में ही अपनी भतीजी की चूत बजाता रहा। दोस्तों आज तो मुझे जन्नत का मजा मिल गया था। अपनी कुवारी भतीजी को चोदकर मुझे स्वर्ग की प्राप्ति हो गयी थी। मेरा लौड़ा तो भतीजी के खून में पूरी तरह से रंग गया था। मैं शीला को ३५ मिनट बिना रुके चोदा फिर उसकी चूत में ही माल गिरा दिया। जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी भोसड़ी [चूत] से निकाला तो मेरा माल उसकी चूत से बाहर की तरफ निकल आया।

उसके बाद उसके दर्द को कम करने के लिए मैं उसके रसीले होठ चूसने लगा। कुछ देर बाद शीला का दर्द खत्म हो गया।

“क्यों भतीजी….कैसा लग चाचा का लौड़ा खाकर????” मैंने पूछा

“मजा आया चाचा पर दर्द भी बहुत हुआ!!” शीला बोली

मुझे उसपर फिर से प्यार आ गया और मैं उसके होठ को चूसने लगा। कुछ देर तक हम दोनों आम के पेड़ के नीचे घास पर लेटे रहे और ठंडी ठंडी हवा खाते रहे। उसके बाद मैं शीला को अपना ७” का लौड़ा चूसने के लिए दे दिया। मेरी भतीजी बड़ी सीधी और भोली लड़की थी। उसने तुरंत ही मेरा लंड हाथ में ले लिया और फेटने लगी। मैं उसी के बगल लेट गया था और वो मेरे पास बैठ गयी थी। मैंने अपने सर के नीचे दोनों हाथो को मोड़कर रख लिया जिससे मेरा सर थोडा ऊँचा हो जाए और शीला से लंड चुस्वाने में मजा आये।वो मेरे मोटे लौड़े को देखकर आश्चर्य कर रही रही। वो मुश्किल से मेरे लंड को पकड़ रही थी क्यूंकि ये बहुत मोटा था। फिर धीरे धीरे वो उपर नीचे हाथ चलाकर फेटने लगी। मुझे मजा आ रहा था। मैंने उसके दूध को हाथ में लेकर सहलाने लगा। कुछ देर बाद शीला मेरे लौड़े पर झुक गयी और पूरा का पूरा मुंह में ले गयी और मेरा लंड चूसने लगी। उसने ४० मिनट तक मेरा लंड चूसा। उसके बाद मैंने उसकी कुवारी गांड मारी। कहानी आपको कैसे लगी, अपनी कमेंट्स नॉन वेज स्टोरी डॉट कॉम पर जरुर दे।

loading...

Hindi Sex Story

Hindi Sex Stories: Free Hindi Sex Stories and Desi Chudai Ki Kahani, Best and the most popular Indian top site Nonveg Story, Hindi Sexy Story.


Online porn video at mobile phone


hindi villige sex bhabhiX story papa ko seduce kar cudayi office meदेवर से चुदई पती के ऑफिस जाते हीdbsi bhabhi ke sexy khayaneSex khani book sister bro hinde bookSex story sis bro telmalish hindixxx चाचा और भतिजी नागिन की चुदाई Bhabhi be karaya chut ka intzam storyनई पडोसन कि जबरन चूदाई 9ईच लँड सेDaamd nai saas ko chda xxx videohd Bhan ka ajnbi sa gang bag sax stori hindixxx anti videos deshi fas taemमाँ को जबरदसती चुदाई का गिफट दियाबॉयफ्रेंड चुदाई गालियाँ कहानीsali bhabhi chachi ko ek sath chodaDada ne mala zawale Kathaसलीम का लंड कहानीDadi auradamad ki sex storiesमोनिका रंडी के जवानी का सेक्सी फोटोsex ani nipals yach kay sambandh mrthibahen ki maang me sindoor bhara chudai kahaniअन्तर्वासना मुर्गा बनwww मराठी कामुकता कथा सेकस.comदीदी के मोटे चुचे गाडGandi Gali Deke Chut Chudwal Hindi Kahaniyaससुर पेलवाते भाई ने पकडा कहानियाpati wefi ko chudvane bhaje xxx saksi comजीजा साली बहन बहनोई बीवी की अदला बदलीchacha bhatijisexy ki kahaniहिन्दी। शेकसि। मैसि। के।चोद ईमाँ और बहन को पत्नी बनाया सेक्सी कहानीanty ke boob se doodh nikalane lagawww.nokri ke interview me jabardasti chudai ki kahani.छिनाल रंडी की गांड और बुर फाड़ीकुवारी भें को जबर्दश्ती छोड़ा नई हिंदी सेक्सी कहानीकमसीन भतिजी कि चुदाई कि कहनीDesi randi funked xxx hindi video jangal meकहानी नॉनवेज बीबी की xxxviklang bahan ko chofa hindi sex storyWed masti det com xxx sexey suhagrat desi hindi stori kahani diwalie me chudai शुमैला की चुदाई कहानी papa na nasa kar ka piragnat kiya sax storisviklang bahan ko chofa hindi sex storygandi gali chudai didi ke sath stotyडाँकटर ने बेहोश करके sex XXX किया hindi storisTarenMai maa bahan ki choodai ki storisbhai se chudwana achcha haiमामी को चोदने की कहानीकिसी भी लड.कि को एक बार चूदवाने के लिए कैसे मनाएbai.na.bahan.ku.cuhud.kar.garvati.kieya.ki.kahani.hidi.ma.kamukta.bangli grils ke xxx kahaniyasammohit bdsm Bhabhiwidhwa se sadi karke sugarat me chut fadne ki sex storiesmama ne tafi ke bahane chudai storyHindisexstoremom.and.sonbabli ko choda ratmeVhidwa kar makam chufwayahindistory sexiholibhudhe samdhi shamdhan cudai kahani newचुदक्कङ बहु घर के सारे मर्दो से चुदवाती हेचुत मे लवडा मेटा शा हिनदी मे जवाब दैBiwi ko chudwakar karz chukaya hindi sex storyमम्मी के गांड का उद्घाटन किया मैनेंसाली के साथ करवाचौथ मनाई क्सक्सक्स स्टोरीनई नवेली पहली बार सेक्सी सील तोड़ने वाली सेक्सीपरिवार में पेशाब पिलाया सलवार खोलने की सेक्सी कहानियांहोली खोलती लडकी की xxx videosBhiya kee sali kee boor chode sexy storyमैने ला झवलोमुझे अपने घर कि औरतो को चुदाई करने का शोखgaram bhabhi ne devar se shant hui kahani hindi me foto ke sath.बुआ कि लङकि को चोदा उसी के घर परदीदी के जेठानी क्सक्सक्सक्स स्टोरीsardiyo mai bhai bhen sex story condomsरंग लगाने के बहाने सलवार भाड़ में जबरदस्ती चोदाvidwa noukrani ki chut mare pase dekesaree. m. chudai. forclytoilet room me pesab karte dekha gandi gali chudai kahaniबुर मे बाल सासु माँ की चोदई कहानियाँKarva chauth par didi ki chodaiChut chate sans ke damad nd hindi story